Thursday, July 18, 2024

अनन्या पांडे के पिता को पजामे के नाड़े की वजह से मिली थी पहली फ़िल्म , जानिए चंकी पांडे का वो किस्सा

अनन्या पांडे उन दिनों से मीम मटेरियल बन गई थी जब उन्होंने ऑन रिकॉर्ड कहा था कि उन्होंने बहुत स्ट्रगल किया है और उनके पिता को आज तक कॉफ़ी विद करण में जाने का मौका नही मिला है। चंकी पांडे 100 से भी ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं।

हॉउसफुल सीरीज में उनके द्वारा निभाए गए आखिरी पास्ता के किरदार ने उन्हें खूब प्रसिद्धि दिलाई। और एक जमाने में गोविंदा के साथ सुपरहिट फिल्म देने वाले चंकी को वापिस लोकप्रिय किया।

Chunky panday ananya panday father

जब चंकी पांडे को वाशरूम में नाड़ा खोलने के लिए करना पड़ा संघर्ष

बात है उन दिनों की जब चंकी पांडेय 1981 में आई रॉकी में एक्स्ट्रा का काम करने के बाद मॉडलिंग करते हुए हीरो बनने के लिए संघर्ष कर रहे थे। एक बार वे शादी अटेंड करने पहुँचे और जब खूब बियर पीने के बाद उन्हें प्रेशर आया तो वे टॉयलेट की ओर भागे। बदकिस्मती से उन्होंने उस दिन चूड़ीदार पजामा पहन रखा था और नाड़ा खोलने का काम उन्हें आता नही था। वे मदद मांगने लगे लेकिन कोई नाड़ा खोलने के लिए आगे नही आ रहा था। अनन्या के पिता को उस दिन नाड़ा खोलने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था।

चंकी पांडे Chunky panday ananya panday father mother

फ़िल्म प्रोड्यूसर पहलाज निहलानी ने बढ़ाया मदद का हाथ

फ़िल्म निर्माता पहलाज निहलानी भी उसी शादी में पहुंचे थे। उन्होंने ही चंकी की सहायता की। नाड़ा खोलने के बाद बातों- बातों में पहलाज ने चंकी के बारे में पूछा, तो चंकी ने बताया कि वो मॉडलिंग करते हैं। पहलाज को चंकी के अंदर कुछ खास दिखा। वहीं पहलाज ने खुद के बारे में बताया कि वो फ़िल्म निर्माता हैं। गोविंदा की डेब्यू फिल्म ‘इल्जाम’ का निर्माण भी पहलाज ने ही किया था।

चंकी पांडे Chunky panday ananya panday father

उस मुलाकात ने दिलाई चंकी को पहली फ़िल्म

पहलाज और चंकी की उस अजीबोगरीब मुलाक़ात ने चंकी के संघर्ष के दिनों को समाप्त किया और उन्हें पहली फ़िल्म मिली। पहलाज निहलानी ने चंकी को उनके करियर की पहली फ़िल्म “आग ही आग” दी। इसके बाद आई चंकी की दो फिल्में ‘पाप की दुनिया’ और ‘गुनाहों का फैसला’ के निर्माता भी पहलाज ही थे। दोनों के रिश्ते आज भी घर परिवार की तरह हैं। चंकी आज भी पहलाज के शुक्रगुज़ार हैं, फिल्मों में मौका देने के साथ उस दिन पजामा का नाड़ा खोलने के लिए भी।

Chunky panday ananya panday father चंकी पांडे

पहलाज, गोविंदा और चंकी की ये फ़िल्म बन चुकी है कल्ट क्लासिक

‘ओह लाल दुपट्टे वाली तेरा नाम तो बता।’ ये गाना आज भी बसों और रेडियो में जब बजता है तब नाचते हुए चंकी और गोविंदा नज़र आ जाते हैं। 1993 की सुपरहिट कॉमेडी एक्शन फिल्म ‘आँखें’ के निर्देशक डेविड धवन और लेखक अनीस बज़्मी थे।

इस फ़िल्म में चंकी और गोविंदा ने जबरदस्त कॉमेडी की थी । पहलाज निहलानी निर्मित इस फ़िल्म में कादर खान, राज बब्बर और एक बंदर ने भी काम किया था। इस फ़िल्म को टीवी पर खूब पसंद किया जाता है।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here